skill vs education story in hindi

जिग्नेश की जिंदगी Skill से भरी और महेश की Education से।

भागती हुई सिटी बस से जल्दबाजी में एक युवा उतरा और बहुत ज्यादा जल्दबाजी में भागते हुए एक computer  shop में entry लिया और बैग खोलते हुए अपना एक बहुत महंगा laptop ,shop वाले के तरफ थमाते हुआ बोला की भैया 2 दिन बाद मेरा अगले कंपनी के लिए इंटरव्यू है और मुझे इंटरव्यू Skype के माध्यम से देना है लेकिन मेरा laptop start नहीं हो रहा है, मुझे जैसे भी हो शाम तक मेरा laptop रिपेयर करके दे दीजिये इतना कहकर वो युवा फिर से सिटी बस पकड़कर अपने निर्धारित स्थान जहा उसको पहुंचना था चला गया।

 

शाम लगभग 8 बजा रहा होगा  वही युवक सुबह वाला उसी computer  shop में फिर से आया और पूछा भैया laptop रिपेयर हो गया क्या,shop का मालिक काउंटर तरफ पीठ किये हुए कुछ काम कर रहा था,युवक की आवाज सुनकर जैसे ही वो पलटा उस युवक को देखकर सहसा एक आवाज निकल पढ़ी अरे महेश तू ,अब उस युवक की बारी थी वो अचंभित होकर बोल उठा अरे जिग्नेश  तू यहाँ कैसे ये सुनकर shop का मालिक जिसका नाम जिग्नेश  था,बोला महेश कैसा है महेश ने जवाब दिया मैं तो बढ़िया अभी एक MNC IT कंपनी में जॉब कर रहा हूँ। तू ये शॉप खोलकर बैठ गया।

 

चल मेरे साथ तू भी एक जॉब पकड़ ले यह सुनकर जिग्नेश बोला नहीं यार जॉब करने का मन नहीं मै अपना skill बड़ा रहा हूँ, और इसी computer hardware business को आगे लेकर जाऊंगा।

यह सुनकर महेश बोला भाई क्या skill कैसा skill देख आज तू मेरा laptop repair कर रहा है,कल भी यही करते रहेगा और देख मेरा ये सेकंड जॉब का इंटरव्यू देने जा रहा हूँ और यहाँ हो सकता मुझे per month 1.5 lakh salary का पैकेज मिल जाएगा।

और मैं तेरे से आगे निकल जाऊँगा जिग्नेश बहुत ही शांत तरीके से जवाब दिया की देखते है भाई by the way तेरा laptop रेडी है तू बढ़िया इंटरव्यू दे best of luck महेश बोला thanks जिग्नेश फिर भी मेरा बात मान तू भी जॉब कर ले तू भी मेरा जैसे क्वालिफाइड है IT से Btech है ,जिग्नेश बोला नहीं भाई मुझे लगता है हम लोग पढ़ तो लिए है पर skilled नहीं हुए मुझे skill develop करके अपना business खड़ा करना है।

Life changing और भी पोस्ट पढ़े

करीबन 7 साल बाद  दिसंबर का महीना था छोटी सी चाय की दुकान के सामने  एक बड़ी सी गाड़ी रुकी जिसमे से करीबन 32 वर्ष के आस पास का एक युवक उतरा चाय की दूकान में बोला भैय्या 1 चाय देना,चाय की चुस्की लेते हुए सहसा चाय पकड़ा हुआ युवक की नजर पास खड़े एक दूसरे युवक पर नजर पड़ी जो सिगरेट लगातार पीये जा रहा था।

सिगरेट पिता हुआ युवक कोई और नहीं महेश था लम्बी गाडी वाली युवक ने कहा अरे महेश  तू यहाँ तू तो विदेश चला गया था,यह सुनते हुए महेश बोला जिग्नेश तू कैसा है जिगनेश बोला मजे में आजकल खुद का shop ले लिया हूँ और दो अन्य जगह अपना computer hardware सर्विस का सेंटर खोल  लिया हूँ बढ़िया चल रहा है।

 

यह सुनते ही महेश की आँख भर आई और बोला मै तो कही नहीं रहा है मैंने जॉब में तो बहुत पैसा कमाया लेकिन मंदी के चलते जॉब चली गई  और आज तो ये हालत है की पांच हजार की भी नौकरी नहीं मिल रही है जो मैं सीखा वो सिर्फ IT industry में use होता है और आज मेरे किसी काम का नहीं है  मेरे  अंदर  ऐसा कोई skill भी नहीं की मै अपना खुद का कुछ का कर सकूँ।

महेश की बात सुनकर जिग्नेश बोला भाई ये तेरी गलती नहीं है ये पुरे सिस्टम की गड़बड़ी है आजकल हर कोई केवल जॉब के लिए पढाई कर रहा  है खुद के skill बढ़ाने के लिए नहीं की अगर हमको जॉब न मिले तो हम अपना life survive कैसे करेंगे?यह कोई नहीं सोचता बस भीड़  के पीछे भागे जा रहे है educated होना अलग चीज है skilled होना अलग चीज।

यह सुनकर महेश बोला जिग्नेश भाई मैं तुम्हरे काम को हँस कर गया था,कोई भी काम छोटा बड़ा नहीं होता तुम  सही बोल रहे हो देखो मैंने भी वही पढाई  की जो तुमने की लेकिन फर्क यह रहा की मैंने educated तो बन गया लेकिन skilled नहीं  बन  पाया  और मैं आज बेरोजगारी झेल रहा हूँ और तुम अपना business चलाकर सफल हो गए हो।

Moral

Friends इस कहानी से हमको यह सीखना चाहिए की एजुकेशन तो हम ले साथ अपने आपको well skilled बनाये क्योंकि जिसके पास skill है वो कभी भूखा नहीं सोता न किसी के सामने हाथ फैलाना पड़ता है आप भी अपने आप में कोई ऐसा skill develop करे जो आपके बुरे  समय में  आय का साधन    बना  सके।

Thanks for reading

Shashank Kuldeep Dwivedi

पसंद आये तो like कर share जरूर करे अपने मित्र,बच्चो ,और अपने शुभचिंतको के साथ। 

2 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *