Panchi se jeena sikho

Panchi se jeena sikho

 

                नमस्कार आप सभी को, आज मैं panchi se jeena sikho article लेकर आया हूँ चलिये शुरू करते हैं।कल हमारे यहाँ पहली बारिश हुई और इसके चलते तेज गर्मी से कुछ राहत मिली बारिश इतनी तेज हुई कि पूछिये मत मैं और मेरी wife, बेटी तीनो बारिश का मजा लेने के लिये gate के पास ही बैठ गए, हुआ ये की अचानक मेरी wife की नजर एक छोटे से एक जीव पे गया मैंने सोचा कि ये कुछ कीड़ा होगा पर पास जाकर मैंने देखा तो समझ आया कि ये एक छोटी सी चिड़िया हैं मैंने उसे उठाकर छाया में बिठाया और फिर मैं बारिश होते देखना लगा करीबन 1 घंटे बारिश हुआ मन को बडी शांति मिली बारिश बंद होते ही, मैंने सोचा कि पंछी को पकड़ कर और छाया में कर दू पर जैसे ही मैंने हाथ लगाया वो उड़ने लगी शायद वो समझ गई थी कि बारिश औऱ तूफान बंद हो गई हैं ठीक ऐसे ही इंसान की जिंदगी भी हैं। अब आप सोचेंगे कि मैं बारिश, तूफान, पंछी ये सब क्या बोले जा रहा हूं चलिये समझाता हूँ।

 

Bachpan ko hasne de

Career kyo nahi ban paata

 

             इंसान बिल्कुल पंछी जैसा है बस जरूरत है तो समय और अपने आपको समझने की हम इंसान हैं और हमारी जिंदगी में समस्या आना स्वाभाविक है पर समस्या आते ही हम टूट जाते हैं या निशक्त   होकर हाथ मे हाथ लेकर बैठ जाते हैं, पर याद रखिये बारिश औऱ तूफान के जैसे ही ही मुसिबत औऱ बुरे वक्त      कभी भी स्थाई रूप से नहीं रहता हैं मुसिबत औऱ बुरे वक्त को भी जाना ही पड़ता हैं फिर    हम क्यों हार मानकर बैठ जाते हैं।सोचिये औऱ मैंने भी सोचकर देखा हैं एक अदना सा पंछी बारिश औऱ तूफान के तेज  होने पर तूफान के थपेड़ों की वजह से एक जगह चुपचाप जमीन पर आकर बैठ गई थी जबकि पंछी के  पास केवल एक पर का ही सहारा था आपके पास तो सबसे बड़ी चीज है और वो हैं दिमाग और हौसले की शक्ति फिर आप क्यो छोटी सी    परेशानी आने पर हौसला छोड़कर निढाल होकर बैठ जाते जरा सोचिये उस पंछी के बारे में जो तूफान का इशारा समझ      गई और शांत बैठ गई जैसे ही तूफान शांत हुआ अपनी पूरी हिम्मत के साथ उड़ गई और ऐसे उड़ी की   आसमान पर पहुँच गई ,जरा सोचकर देखिये फिर हम क्यों किसी करिश्मा और किसी का मुंह क्यों ताक रहे कि हमारी समस्याओं का समाधान लेकर कोई फरिश्ता आएगा।

Kya Professional Life Or Personal Life Balance Ho Sakta Hai?

Jaisa Sochoge Waisa Banoge

 

 

           कोई नहीं आएगा और आएगा तो कुछ है तो वो है हौसला, हिम्मत, सोच और वो भी कहीं और से नहीं आपके अंदर से अपने चारों तरफ नजर घुमाकर देख लीजिए या इतिहास पढ़ लीजिये हर समस्या का समाधान इंसान ने खुद ही किया है,इन्सान है हमारी जीवन में समस्या आना एक मेहमान की तरह हैं और हमको भी एक अच्छे मेजबान की तरह उनका स्वागत करना चाहिये,आप जानते ही होंगे मेहमान कभी स्थाई नही होते आपकी समस्या भी कुछ समय मे चला ही जायेगा ।

Engineer Ki Life

 

Funky-Junky Story in Hindi

 

न हो उदास इंसान, इंसान हैं तू भगवान नहीं

पंछी ने न सोचा की,तूफान से क्या होगा मेरा l

फिर तू भला क्यों सोच सोच के परेशान की कुछ न होगा मेरा

जरूरत है तो बस एक हौसले की फिर जमीन और आसमान की क्या बिसात सब तेरा होगा।

 

आपका मित्र

शशांक कुलदीप द्विवेदी


 

 

 

 

3 Comments

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *